ईडीएफ़ इंडिया: भारत के भावी ऊर्जा परिवर्तन के भागीदार

भारत में 25 वर्षों से अधिक समय से मौजूद, ईडीएफ़ देश के महत्वाकांक्षी ऊर्जा विकास और डीकार्बोनाइज़ेशन कार्यक्रम का एक प्रमुख भागीदार है।

3 न्यून कार्बन ऊर्जा क्षेत्र जहाँ हम बदलाव लाते हैं

परियोजनाओं की विस्तृत शृंखला के माध्यम से, ईडीएफ़ समूह भारत के 3 प्रमुख न्यून कार्बन ऊर्जा क्षेत्रों में सक्रिय है। ईडीएफ़ समूह भारत के बिजली वितरण नेटवर्क को उन्नत करने, बिजली को डीकार्बोनाइज़ करने और आबादी को बेहतर सेवा देने वाली स्मार्ट सिटी के निर्माण में सरकार की मदद करता है।

  1. परमाणु-संबंधी

    भारत और दुनिया में सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र को विकसित करने में ईडीएफ़ की केंद्रीय भूमिका है।

  2. नवीकरणीय ऊर्जा

    हमारे सौर और पवन फ़ार्म हमारे द्वारा शुरू किए गए संयंत्रों से 476 MW का उत्पादन करते हैं, जबकि 2366 MW की परियोजनाएँ पाइपलाइन में हैं।

  3. services

    सेवाएँ

    हम भारत के शहरों को उनके नेटवर्क को अधिक सक्षम और अधिक कुशल बनाने के लिए सेवाएँ प्रदान करते हैं।

हमारी प्रमुख परियोजनाएँ

इन परियोजनाओं के माध्यम से, हम भारत के ऊर्जा परिवर्तन में योगदान देते हैं और इसके नागरिकों के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डालने में मदद करते हैं।

परमाणु ऊर्जा

जैतापुर पावर प्लांट

नवीकरणीय ऊर्जा

गुजरात पवन फ़ार्म

सेवाएँ

5 मिलियन (50 लाख) स्मार्ट मीटर

जलविद्युत ऊर्जा

कोल्डैम पावर प्रॉजेक्ट

EDF India rewards low carbon start-ups

ईडीएफ़ पल्स इंडिया: विजेता उद्घाटित

ईडीएफ़ पल्स इंडिया प्रतियोगिता के पहले संस्करण ने संवहनीयता में उनके अभिनव विचारों के लिए 4 न्यून कार्बन समाधान स्टार्ट-अप को पुरस्कृत किया। प्रतियोगिता का उद्देश्य भारत के ऊर्जा परिवर्तन का समर्थन करना है, और स्थानीय उद्यमियों से कुछ काफ़ी नवीन अवधारणाओं को आकर्षित करना है।

ख़बरें देखें

इस साइट की एक्सेस RGAA वर्शन 4.1 के साथ आंशिक रूप से (89%) अनुपालन में है